यूपी में खरीद के लिए किसान पंजीकरण 2021: ई-क्रय प्रणाली और पूरी जानकारी

यूपी में खरीद के लिए किसान पंजीकरण 2021

 उत्तर प्रदेश सरकार राज्य के किसानो को गेहू  खरीद के लिए ऑनलाइन सुविधा प्रदान कर रहे है उत्तर प्रदेश के किसान  अपनी फसल को राज्य सरकार को बेचना चाहते हैं उनके लिए राज्य सरकार ने ऑनलाइन पोर्टल को लॉन्च किया है जिसका नाम है  खाद्य एवं रसद विभाग उत्तर प्रदेश ई-क्रय प्रणाली / ई-उपार्जन पोर्टल  ।इस ऑनलाइन पोर्टल के माध्यम से राज्य के किसान को अपना पंजीकरण करना होगा । पंजीकरण करने के बाद किसान अपनी रबी की फसल (गेहूं) को न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) पर सरकारी एजेंसियों को बेच सकते हैं। आज हम आपको UP गेहूं खरीद ऑनलाइन किसान पंजीकरण बतायेगे | इसकी पूरी जानकारी आपको हमारे इस लेख में मिल जाएगी ।

उत्तर प्रदेश ई-क्रय प्रणाली 2021

उत्तरप्रदेश में राज्य सरकार अप्रैल से अपने राज्य के किसानों से न्यूनतम समर्थन मूल्य पर गेहूँ खरीदने का कार्य शुरू कर रही है। उत्तर प्रदेश में गेहूं की खरीद 15 मई तक की जाएगी। राज्य के जो किसान भाई अपनी फसल को बेचना चाहते हैं तो वह खाद्य एवं खाद्य विभाग की ई - क्रय प्रणाली की ऑफिसियल वेबसाइट पर जाकर अपना पंजीकरण करा रहा है। आरबी सीज़न 2020-21 गेहूं की खरीद के लिए ऑनलाइन पंजीकरण अप्रैल से शुरू होगा। 15 अप्रैल से आप इस पोर्टल पर पंजीकरण कर सकते हैं |

यूपीआई खरीद अप्रैल 2021 से शुरू होगी

29 जनवरी 2021 को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी द्वारा गेहूं खरीद शुरू करने के निर्देश दिए गए हैं। यह गेहूं खरीद 1 अप्रैल 2021 से आरंभ की जाएगी। गेहूं खरीद के तहत किसी भी क्रय केंद्र पर किसानों को किसी को भी समस्या का सामना नहीं करना पड़ेगा। फिटिंगहाउस और क्रय केंद्रों में गेहूं की सुरक्षा के पूरे इंतजाम किए जाएंगे। इस वर्ष गेहूं के न्यूनतम समर्थन मूल्य में गेहूं 50 की वृद्धि की गई है। अब गेहूं का न्यूनतम समर्थन मूल्य प्रति 1975 रुपए प्रति क्विंटल हो गया है। समय सारिणी और प्रस्तावित क्रय नीति के अधिकारियों के साथ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री द्वारा गेहूं खरीद 2021- 2022 के संबंध में एक बैठक की गई।

यूपी गेहु खारिद 2021 की मुख्य विशेषताए

  • योजना का नाम:- यूपीटी खरीद
  • उनकी द्वारा शुरू की गयी:- उत्तर प्रदेश सरकार
  • विभाग:- कृषि विभाग
  • लाभार्थी:- राज्य के किसान भाई
  • आवेदन प्रक्रिया:- ऑनलाइन 
  • ऑफिसियल वेबसाइट:- https://eproc.up.gov.in/Uparjan/Home_Reg.aspx

गेहूं की खरीद सुनिश्चित करेगी

प्रस्तावित क्रय नीति के संबंध में एक प्रस्तुतीकरण प्रमुख सचिव खाद्य एवं विनय कुमारी जी के द्वारा भी प्रस्तुत किया गया। मुख्यमंत्री द्वारा इस प्रस्तुतीकरण में विभिन्न प्रकार के सुझाव प्रस्तुत किए गए। उन्होंने कहा कि क्रय केंद्रों पर विभिन्न प्रकार के इंस्ट्रूमेंट जैसे की नमी मापक यंत्र, डबल जाली का छलना, इलेक्ट्रॉनिक कांटा आदि उपलब्ध कराया जाए। यह सभी उपकरण 10 मार्च तक क्रय केंद्रों पर उपलब्ध कराए जाएंगे। मुख्यमंत्री जी के द्वारा यह भी निर्देश दिया गया कि इस वर्ष ईोप मशीनों के माध्यम से बायोमैट्रिक ऑथेंटिकेशन द्वारा गेहूं खरीदने की व्यवस्था की जाएगी। इस प्रणाली से विशेषज्ञता बनीगी। इस वर्ष बटाईदारो से भी गेहूं की खरीद की जाएगी।

क्रय केंद्रों पर पथ प्रदर्शक चिह्न

मुख्यमंत्री जी द्वारा क्रय केंद्रों पर पथ प्रदर्शक चिन्ह लगाए जाने के निर्देश दिए गए और ग्राम पंचायतों में क्रय केंद्रों की सूची वाली वॉल पेंटिंग बनाई जानी चाहिए भी महत्वपूर्ण बताई गई है। किसानों को सुविधा होगी। मुख्यमंत्री द्वारा अधिकारियों को निर्देश दिए गए कि गेहूं की पूरी प्रणाली में विस्तार सुनिश्चित की जाए। किसी भी किसान को किसी भी प्रकार की असुविधा का सामना ना करना पड़ता है। किसानों को गेहूं का समय से भुगतान किया जाएगा। अधिकारियों द्वारा इस पूरी प्रक्रिया को सरल तरीके से आयोजित किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि अप्रैल-मई के समय क्रय केंद्रों पर छाजन पेयजल बैठाने की व्यवस्था भी अनिवार्य है।

उत्तर प्रदेश गेहूँ खरीद किसान योजना का उद्देश्य

पूरे देश में ताला डाउन कि वजह से किसान अपनी फसल को बेच नहीं पा रहा है। जैसे उन्हें भारी नुकसान उठाना पड़ सकता है। समस्या को देखते हुए राज्य सरकार ने ऑनलाइन पोर्टल को लॉन्च किया है। इससे किसान की फसल समय से खत्म होगी और किसानो को समय से पैसा मिल होना चाहिए इससे किसान अपना जीवन यापन आसानी से कर सकते हैं। फसल बिक जाने के बाद बिक्री की धनराशि सीधे लाभार्थियों के बैंक अकॉउंट में पंहुचा दी जाएगी।

ई-क्रय प्रणाली की विशेषताएं

  • मंडियों में अपनी उपज को ले जाने से पहले सभी इच्छुक किसानों को यूपी ई-उपार्जन पोर्टल पर ऑनलाइन पंजीकरण करा कर प्राप्ति प्राप्त करनी होगी जिससे उसकी बारी आए तभी वह मंडी में होगी।
  • उत्तर प्रदेश सरकार ने वर्ष 2020-21 के लिए प्रदेशभर में गेहूं की खरीद के लिए 5500 खरीद केंद्र बनाए हैं। इस वर्ष 55 लाख टन टन गेहूं की खरीद का टारगेट रखा गया है और गेहूं की खरीद 1925 रुपये / क्विंटल के न्यूनतम समर्थन (एमएसपी) मूल्य पर रखी गई है।
  • राज्य के सकिसानो को पंजीकरण के बाद टोकन ले ले और फिर केवल उसी दिन मंडी आए जिस दिन का उनका पासबंदी है।
  • इस योजना का लाभ उत्तर प्रदेश के उन किसानो को प्रदान किया जाएगा जो अपनी गेहु की फसल को बेचना चाहते हैं।

यूपी गेहूं खरीद के लिए किसान पंजीकरण 2021

  • किसानों को अपनी जमीन से संबंधित जानकारी के लिए खसरा - खतौनी, खसरा संख्या और जमीन का रकबा और गेहूँ का रकबा आदि देना आवश्यक है।
  • आधार कार्ड
  • अपने खेत का राजस्व अभिलेख से संबंधित जानकारी देनी होगी।
  • बैंक अकाउंट की किताब
  • मोबाइल नंबर
  • पास साइज फोटो

यूपी गेहूं खरीद किसान पंजीकरण 2021 की जरुरी बाटे

  • पंजीकरण में गेहूं के खेत का वापसी जरूरी है।
  • खेत के वाप में खतौनी / खसरा संख्या, गेहूं का रकबा भरना आवश्यक है।
  • आधार कार्ड, बैंक पास बुक व राजस्व अभिलेखों का सही विवरण दर्ज करना होगा।
  • पंजीकरण होने के बाद पंजीकरण संख्या और उसका प्रिंटर जरूर ले लें।
  • मोबाइल नंबर देकर पंजीकरण ड्राफ्ट फिर से प्रिंट किया जा सकता है।
  • मोबाइल नंबर द्वारा पंजीकरण में संशोधन किया जा सकता है।
  • जब तक आवेदन लॉक नहीं किया जाता है, पंजीकरण स्वीकार नहीं किया जाएगा।
  • मोबाइल नंबर पर पंजीकरण की पूरी जानकारी भेजी जाएगी।
  • 100 क्विंटल से अधिक गेहूं की बिक्री के लिए एसडीएम से सत्यापन कराया जाएगा।
  • गेहूं बेचने के बाद केंद्र प्रभारी से पावती पत्र अवश्य प्राप्त कर ले।

यूपी में खरीदेगी किसान पंजीकरण 2021 कैसे?

राज्य के जो इच्छुक लाभार्थी इस ऑफ़लाइन पोर्टल पर पंजीकरण करना चाहते हैं तो वह नीचे दिए गए तरीकों को फॉलो करें।
  • सर्वप्रथम आवेदक को खाद्य एवं पेय विभाग, उ ० प्र ० ई-क्रय प्रणाली को कार्यालयीय वेबसाइट पर जाना होगा। ऑफिसियल वेबसाइट पर जाने के बाद आपके सामने होम पेज खुल जाएगा।
  • इस होम पेज पर आपको “गेहू खरीद के लिए किसान पंजीकरण” का ऑप्शन दिखाई देगा।
    • ऑप्शन पर क्लिक करने के बाद आपके सामने कंप्यूटर स्क्रीन पर अगले पेज खुल जाएगा ।इसके बाद इस पेज पर 6 स्टेप खुल जाएँगे आपको एक के बाद एक भरना है।जहा पर आपको आपको अपना मोबाइल नंबर और कैप्चा कोड  भरना होगा । इसके बाद आगे बढे के बटन पर क्लिक करना होगा ।
  • सबसे पहले आपको पंजीकरण फॉर्म पर क्लिक करना होगा। मैट्रिक करने के बाद आपके सामने अगले पेज पर किसान पंजीकरण फॉर्म खुल जाएगा।
  • जिसके बाद रबी फसल (गेहूं खरीद) के लिए किसान ऑनलाइन पंजीकरण फार्म / फॉर्म खुल जाएगा। इस पंजीकरण फॉर्म में आपको पूछी गयी सभी जानकारी जैसे किसान का नाम, पता, मोबाइल नंबर, आधार कार्ड नंबर, पिता, पति का नाम, तहसील, जनपद आदि भरना होगा।
  • सभी जानकारी भरने के बाद पंजीकरण करें।

पंजीकरण प्रारूप

कोई भी किसान ई-उपार्जन पर ऑफ़लाइन पंजीकरण फॉर्म भरने से पहले आवेदन पत्र का प्रारूप भी देख सकता है जिससे उसको अपनी रबी फसल को बेचने के लिए आवेदन फार्म भरने में आसानी से होगा।
आपको इसके बाद आपको पंजीकरण प्रारूप में ऑप्शन पर क्लिक करना होगा। इसके बाद आपके सामने पंजीकरण प्रारूप की पीडीएफ खुल जाएगी। आप इसे विस्तार से पढ़ सकते हैं |

Post a comment (0)
Previous Post Next Post